fbpx
Thursday, July 7, 2022
Home OMG News सोते वक्त क्यों नहीं सुनाई देती आवाजें? जानें नींद से जुड़े रहस्य...

सोते वक्त क्यों नहीं सुनाई देती आवाजें? जानें नींद से जुड़े रहस्य का हैरान करने वाला कारण


आपको रामयण का किरदार कुंभकरण तो याद ही होगा जो 6 महीनों तक सोता रहता था. रामायण सीरियल में जब उसे जगाने के लिए लंका की सेना जाती है तो वो उसके कान के पास ढोल-नगाड़े भी बजाते हैं मगर उसकी नींद नहीं खुलती. ऐसा सिर्फ कुंभकरण के साथ ही नहीं, आम इंसानों के साथ भी होता है. कई बार हम इतनी गहरी नींद (Why can’t people hear in their sleep) में सोते हैं कि हमें फोन की आवाजें, या आसपास का शोरगुल नहीं सुनाई देता. पर क्या आपने सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है?

ये सवाल काफी रहस्यमयी लगता है कि अगर विज्ञान ये दावा करता है कि सोते वक्त भी हमारे दिमाग का एक हिस्सा सचेत रहता है तो फिर हमें नींद में आवाजें क्यों नहीं सुनाई (why we cannot hear during sleep) देतीं. इसके पीछे हमारे दिमाग का ही एक मायाजाल है. दिमाग ही ये तय करता है कि सोते वक्त किस आवाज से उठना है और किससे नहीं. दिमाग ही बताता है कि कब उठना है और कब सोते रहना है.

नींद में आवाजें कानों तक क्यों नहीं जातीं?
द कनवर्सेशन वेबसाइट की एक रिपोर्ट के अनुसार दिमाग ये तय करता है कि किस तरह की आवाजों (sound during sleep) पर हमें उठा देना है और सचेत कर देना है. आमतौर पर तेज आवाजों पर दिमाग रिसपॉन्ड करता है और इंसान को उठा देता है. धीमी आवाजों से हमें फर्क नहीं पड़ता. इस वजह से घड़ी की टिक-टिक में इंसान सो लेता है, उसे वो आवाजें नहीं उठातीं मगर सोते वक्त कोई धातु की चीज गिरा दे तो उससे होने वाली आवाज से नींद खुल जाती है.

दिमाग का है पूरा खेल
दिमाग को पता रहता है कि कौन सी आवाजें महत्वपूर्ण हैं और कौन सी नहीं. जब कोई अजीबोगरीब आवाज सुनाई पड़ती है तो दिमाग हमें अलर्ट करता है. दिमाग की इसी खूबी के कारण पुराने वक्त में जब लोग जंगलों में रहते थे तो जंगली जानवरों से खुद को बचा पाते थे क्योंकि दिमाग उन्हें खतरनाक आवाजों के लिए सचेत कर देता था. इसके अलावा दिमाग हमें तब भी सचेत कर देता है जब हमारा नाम लिया जाता है. अगर सोते समय किसी और का नाम लिया जा रहा हो तो दिमाग हमें नहीं सचेत करता है. नींद खुलना हमारी गहरी नींद पर भी निर्भर करता है. एक रात में हम करीब 6 स्लीप साइकल से होकर गुजरते हैं. यानी वो दौर जब हमें सबसे गहरी नींद आती है और वो दौर जब हमारी नींद सबसे ज्यादा कच्ची होती है. रात को सोते वक्त शुरुआती घंटों में हमारी नींद सबसे ज्यादा गहरी होती है. उसके बाद नींद हल्की होने लगती है. हल्की नींद में इंसान की आंख जरा सी आवाज में भी खुल जाती है. आवाज पहचानने की दिमाग की ये कला ही इंसान को गहरी नींद लेने में मदद करती है. अगर इंसान नींद में बिल्कुल भी आवाजें ना सुन पाता तो उसके लिए बहुत खतरनाक होता और अगर हर आवाज पर वो उठ जाता तो भी उसके लिए जी पाना मुश्किल होता.

Tags: Ajab Gajab news, Weird news



Source link

RELATED ARTICLES

डॉक्टर के हाथ में सुई देखते ही डर से उई-उई करने लगा पपी, वीडियो देख दुखी हो गए डॉग लवर्स

जानवरों से प्यार करने वाले कभी उन्हें किसी भी तरह के कष्ट में नहीं देख सकते. उनका ज़रा सा दर्द भी उन्हें बर्दाश्त...

कीड़ों से बिस्किट, शेक और चॉकलेट बना रही है कंपनी, खाने को भी तैयार हैं लोग !

Food Company Making Snacks from Caterpillars : दुनिया में अलग-अलग तरह के कल्चर हैं और उनके अपने-अपने खाने पीने के तरीके. कुछ जगहों...

गिरगिट ही नहीं समंदर में रहने वाला जीव भी चुटकी में बदलता है रंग, कैमरे में कैद हुआ बहरुपिया ऑक्टोपस

जितना मज़ा धरती के जानवरों के वीडियो औऱ उनकी हरकतें देखने में आता उतना आनंद शायद ही किसी और तरह के वीडियो में...

Thanks to Support using this Blog site.

Most Popular

कुछ दिनों बाद इन राशियों पर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा, खूब होगा धन- लाभ

ज्योतिष में शुक्र ग्रह को महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है। शुक्र ग्रह के शुभ होने पर मां लक्ष्मी की भी विशेष कृपा प्राप्त...

सारा-कार्तिक के रिश्ते को लेकर करण जौहर ने किया खुलासा, बोले- मेरे शो के बाद ही दोनों…

Karan Johar On Sara Kartik Relationship: मशहूर चैट सो कॉफी विद करण सीजन 7 की शुरूआत गुरुवार से...

Recent Comments