fbpx
Sunday, July 3, 2022
Home Life Style Healthy Living Yog Diwas 2022: शारीरिक ही नहीं भावनात्मक तौर पर भी मजबूत बनाता...

Yog Diwas 2022: शारीरिक ही नहीं भावनात्मक तौर पर भी मजबूत बनाता है योग, ये आसन होंगे मददगार


International Yoga Day 2022: हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (Yog Diwas 2022) मनाया जाता है. बीते कुछ वर्षों में योग को लेकर दुनियाभर में लोगों में काफी जागरुकता देखी गई है. हमारे यहां भी योग के प्रति रूझान में काफी बढ़ोतरी देखी गई है. भले ही हजारों साल पहले योग की उत्पत्ति भारत में ही हुई हो लेकिन लंबे अरसे तक हम लोग योग के प्रयोग और उससे होने वाले फायदों को भूल से गए थे. हालांकि बीते कुछ सालों में हुए बदलाव के बाद अब हर उम्र के लोग योग के प्रति आकर्षित होने लगे हैं. कोरोना महामारी के आने के बाद तो योग के प्रति उत्साह में काफी बढ़ोतरी हो गई है.
बता दें कि योगासन सिर्फ शारीरिक स्तर पर ही फायदा नहीं पहुंचाता है बल्कि ये मानसिक और भावनात्मक रूप से भी मजबूत बनाने का काम करता है. योग को सिर्फ आसन से जोड़कर देखा जाता है हालांकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. आसन योग का एक महत्वपूर्ण अंग जरूर है लेकिन योग का अर्थ काफी व्यापक है. योगासन करने से भावनात्मक मजबूती को लेकर योग मास्टर हिमालय सिद्ध, अक्षर कहते हैं कि योग समय, काल और परिस्थित का अभ्यास होता है. योग सिर्फ हमारे शरीर पर ही नहीं बल्कि हमारे मन पर भी प्रभाव डालता है. नियमित योगासन करने से शरीर भावनात्मक तौर पर भी मजबूत होने लगता है.

इसे भी पढ़ें: रहना है स्वस्थ और निरोग, तो हर दिन 15 मिनट करें ये तीन योग

भावनाएं मजबूत बनाते हैं ये आसान
सूर्य नमस्कार तो आपने काफी लोगों को करते देखा होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि सूर्य नमस्कार हमारे शरीर और मन के लिए जितना प्रभावी होता है, उसी तरह चंद्र नमस्कार, चंद्र विद्या सहित अन्य आसन हमारी भावनात्मक मजबूती के लिए बेहद कारगर होते हैं. योग मास्टर हिमालय सिद्ध, अक्षर के अनुसार खुद को भावनात्मक तौर पर मजबूत बनाने के लिए चंद्र नमस्कार, चंद्र विद्या, चंद्रनाड़ी प्राणायाम, चंद्रभेदी प्राणायाम करना चाहिए. ये सभी आसान और प्राणायाम मन की मजबूती के लिए होते हैं.

इसे भी पढ़ें: परिवार के साथ योग करने से बढ़ती है आपसी बॉन्डिंग, होते हैं कई अन्य फायदे

कई लोग भावनात्मक तौर पर कमजोर होने के साथ ही शारीरिक तौर पर भी कमजोर होते हैं. एक उम्र के बाद कमर दर्द, घुटने में दर्द की समस्या या ज्यादा वजन हो जाना आम समस्या हो जाती है. ऐसी सूरत में भावनात्मक मजबूती के लिए अर्ध चंद्रासन का अभ्यास किया जा सकता है. इसके अलावा डिप्रेशन, चिंता से परेशान होने पर वज्रासन, नौकासन, ताड़ासन जैसे आसन भी काफी कारगर साबित होते हैं.

Tags: International Yoga Day, Lifestyle



Source link

RELATED ARTICLES

बारिश के मौसम में बढ़ सकती है पेट की समस्‍याएं, बीमारियों से बचने के लिए इन हेल्दी गट टिप्स को करें फॉलो

Monsoon Healthy Gut Tips: मानसून आ चुका है.चिलचिलाती धूप और बरसात की वजह से वातावरण में तेजी से वायरस और बैक्‍टीरिया पनप रहे...

मानसून में इन बातों का रखें खास ख्याल, हेल्दी और फिट रहेगी लाइफ-स्टाइल

Tips for monsoon: गर्मी से राहत पाने के लिए ज्यादातर लोग बेसब्री से मानसून का इंतजार कर रहे हैं. देश के कुछ हिस्सों में...

प्रेशर कुकर में पका चावल या भगोने में उबला हुआ, जानिए किसमें है ज़्यादा न्‍यूट्रिशन

Benefits Of Pressure Cooked Rice: हमारे देश में चावल प्रमुख खानों में से एक है. देश के लगभग हर कोने में चावल डेली...

Thanks to Support using this Blog site.

Most Popular

पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित कश्मीरी फोटो पत्रकार को विदेश जाने से रोका गया

सना इरशाद मट्टू एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में शामिल होने और फोटोग्राफी प्रदर्शनी में भाग लेने के लिए पेरिस जा रही थीं, तभी...

A Guide To Social Media Algorithms & How They Work

Why do so many marketers keep asking, “How do social media algorithms work?” Because the algorithms for the major platforms can change quickly. But,...

रणबीर कपूर की इस फिल्म ने तोड़ दिया था उनका दिल, निभाया था सरदार का रोल

रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor) इन दिनों अपनी अगली फिल्म शमशेरा के प्रचार में व्यस्त हैं. वे इसे सफल बनाने में कोई कसर नहीं...

पिता का महंगी बाइक नहीं दिलाना बेटे को गुजरा नागवार, आधी रात को घर में लगाई फांसी

(श्रीराम पुरी) सिमडेगा. किसी चीज की जिद इंसान को कहां पहुंचा देता है इसका उदाहरण झारखंड के सिमडेगा (Simdega) में देखने को मिला है. यहां...

Recent Comments