Monday, June 27, 2022
Home India Top News States राजस्थान के 31 जिलों में वाहनों की उम्र 20 और अलवर व...

राजस्थान के 31 जिलों में वाहनों की उम्र 20 और अलवर व भरतपुर में है 15 साल, जानिये क्या है वजह


जयपुर. राजस्थान के दो जिले अलवर और भरतपुर जिले (Alwar and Bharatpur) राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के तहत आते हैं. एनसीआर में वाहनों के लिए बनाए गए नियम इन दोनों जिलों पर भी लागू होते हैं. एनसीआर के वाहन नियम कहते हैं कि 15 साल के बाद वाहन का दुबारा रजिस्ट्रेशन नहीं हो सकता. आसान भाषा में कहें तो 15 साल बाद वाहन बेकार हो जाता है. जबकि शेष पूरे राजस्थान में 15 साल बाद वाहन का दुबारा रजिस्ट्रेशन करवाकर उसकी उम्र पांच साल तक बढ़ाई जा सकती है. अब इन दो जिलों के लोग परेशान हैं और समझ नहीं पा रहे कि 15 साल बाद अपने वाहनों का क्या करें?

RJ-02 यानि अलवर और RJ-05 यानि भरतपुर. इन दोनों जिलों के एनसीआर के तहत आने के कारण यहां के रजिस्टर्ड वाहनों की उम्र शेष राजस्थान के वाहनों के मुकाबले पांच साल कम हो गई है. इन दो जिलों को छोड़कर शेष राजस्थान में पंजीकृत वाहनों की उम्र इनसे पांच साल ज्यादा होती है. यहां के भी ज्यादातर लोग 15 साल अपना वाहन चलाना चाहते हैं लेकिन वो चाहकर भी उसका रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाते हैं क्योंकि एनसीआर के नियम आड़े आ जाते हैं. न चाहते हुए भी इन दोनों जिलों के वाहन मालिकों को अपना वाहन कटवाना पड़ता है या फिर हमेशा के लिए घर में खड़ा करना पड़ता है.

समाधान तो है लेकिन तकनीकी समस्या आती है आड़े
हालांकि उनकी समस्या वाजिब है. उन्हें लगता है कि एनसीआर में होने के कारण उन्हें वाहनों को लेकर घाटा उठाना पड़ता है. दूसरी तरफ जयपुर आरटीओ ऑफिस इसका उपाय तो बताता है लेकिन उसमें में भी तकनीकी पेंच है. जयपुर आरटीओ राजेश वर्मा के अनुसार अलवर और भरतपुर के लोग चाहें तो दूसरे जिले में एनओसी देकर अपना दुबारा रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. आरटीओ कहते हैं कि दिल्ली के भी ऐसे कई वाहन यहां आते हैं. उनके मालिक उन्हें राजस्थान नंबर पर रजिस्टर करवाकर उन्हें फिर से 5 साल के लिये उपयोगी बना लेते हैं. लेकिन सबसे बड़ी तकनीकी खामी ये है कि अलवर और भरतपुर के वाहन चालक दूसरे जिले में अपना होम एड्रेस कहां से लाएंगे? जब वो दूसरे जिले के दस्तावेज दिखा ही नहीं पाते हैं तो उनके वाहन का रजिस्ट्रेशन दुबारा नहीं हो पाता है.

समाधान हो सकता है बशर्तें…
एनसीआर परिधि में आने के कारण राजस्थान के अलवर और भरतपुर जिलों में वाहनों को लेकर अलग नियम से चल रहे हैं और बाकी 31 जिलों में अलग. इन दो जिलों के लोगों के सामने वाहनों के लेकर ये समस्या बरसों से है लेकिन उसका स्थायी समाधान उन्हें नहीं मिल पा रहा है. परिवहन विभाग के अधिकारियों के मुताबकि अगर इसके लिए दोनों राज्यों के अधिकारी साथ बैठकर कोई समाधान निकालें तो इन दोनों जिलों के लाखों वाहन चालकों के वाहनों की उम्र भी पांच साल बढ़ सकती है.

Tags: Alwar News, Bharatpur News, Jaipur news, Rajasthan news, Transport department



Source link

RELATED ARTICLES

पायलट पर गहलोत के बयान ने मचाई राजस्थान की सियासत में उथल-पुथल, क्या हैं इसके मायने?

जयपुर. राजस्थान के सियासी गलियारों में एक बार फिर से हलचल है. सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) की ओर से शनिवार को सीकर...

मौसम: कोंकण और गोवा में भारी बारिश की संभावना, अरब सागर में चलेंगी तेज हवाएं

नई दिल्ली. भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) ने 27 जून को कोंकण और गोवा में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत...

CM नीतीश से करीबी पूछने पर भड़के RCP सिंह, कहा- मैं किसी का हनुमान नहीं, मेरा नाम रामचंद्र

जमुई. केंद्रीय इस्पात मंत्री और जेडीयू के नेता आर.सी.पी सिंह (RCP Singh) एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए रविवार को जमुई...

Thanks to Support using this Blog site.

Most Popular

प्रियंका चोपड़ा ने पति निक जोनास के साथ एन्जॉय किया बीच वेकेशन, रोमांटिक तस्वीरों में देखें कपल की बॉन्डिंग

तस्वीरों में, निक और प्रियंका को हर जगह प्यार में देखा जा सकता है. उन्होंने तुर्क और कैकोस आइलैंड में कुछ क्वालिटी...

Dance India Dance L’il Masters 5 के विजेता बने नोबोजित नारजारी, ट्रॉफी मिलते ही बोले- अब तो…

जी टीवी के पॉपुलर डांसिंग रिएलिटी शो डांस इंडिया डांस लिटिल मास्टर्स सीजन 5 का फिनाले (Dance India Dance Little Masters 5 Finale)...

पायलट पर गहलोत के बयान ने मचाई राजस्थान की सियासत में उथल-पुथल, क्या हैं इसके मायने?

जयपुर. राजस्थान के सियासी गलियारों में एक बार फिर से हलचल है. सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) की ओर से शनिवार को सीकर...

MHADA Answer Key 2022 JE & Jr Clerk Paper Solution

MHADA Answer Key 2022 JE, Junior Clerk Paper Solution will be discussed here. Read the article to know about the MHADA question paper...

Recent Comments